Tuesday , May 28 2024

Informative Information

How to claim Saudi Oger?

Exciting News: Saudi Oger Refunding Money to Employees!

Attention former employees of Saudi Oger! If you’ve been waiting for your due amount after your service, here’s some fantastic news for you. Saudi Oger is now in the process of refunding money to its staff, and it’s time for you to claim what’s rightfully yours.

How to claim Saudi Oger?

How to Get Your Refund:

  1. Visit Alinma Bank:
    If you’re currently residing in Saudi Arabia, head over to Alinma Bank with the following documents:
  • Saudi Oger company iqama
  • Company ID
  • Passport with your claim number

if you have claim number and want to find the status then click one on the below link fill the information and print the status of your claim.

  1. Print Your Claim Number Status:
    If you don’t know how to print your claim number status, simply visit https://claims.saudiogerb.com/ and follow the instructions to print it.

How to get Saudi Oger Claim Number Step by Step Process Guide.

if you are facing the problem to find your claim number or you do not know how to find the claim number then you have to follow the below.

  • Call the customer helpline number – 920018805 to inquire about your claim number. if you are from another country do not forget to add country code. +966 then dial the number.
  • Also you can send an email to claims@saudiogerb.com to get information about your claim number.
  • For more details, check the official website https://saudiogerb.com/.

How to Claim Saudi Oger from outside Saudi Arabia

If you’re outside Saudi Arabia, or if you don’t have a claim number, fill out the form at https://ehqaq.sa/saudioger/?lang=en.

  • Enter the required information and view the details of your claim and application.
  1. Get Your Claim Number:


How to send email for claim number

Here is the sample email, you have to fill the information about you and send this email to saudi oger office email address – claims@saudiogerb.com for claim number status.

Demo Email:

Subject: Inquiry Regarding Settlement for Past Employees and need claim number

Dear Sir,

I hope this message finds you well. My name is [Your Name], and I used to be an employee at Saudi Oger Company. I am reaching out because I have heard about the settlement funds being provided to former employees who may not have received them when the company closed.

Here are my details for your reference:

Company ID: 3562
Iqama Number: 25121123232
Passport Number: N53568
I would like to inquire about the process to claim the settlement amount. Since I did not receive it when the company closed, I am eager to understand how I can now avail of this opportunity.

Could you please provide me with the necessary information, including any claim number associated with my case and the steps I need to follow to initiate the settlement process?

If there are specific documents required or forms to be filled out, kindly guide me on where to find them or share them with me.

You can contact me through the following:

Email: [Your Email Address]
Phone: [Your Phone Number]
I appreciate your assistance in this matter and look forward to your guidance on completing the settlement process.

Thank you and best regards,

[Your Full Name]
[Your Contact Information]


Stay Informed:

For additional information, visit the official website https://saudiogerb.com/ and their official Facebook page. This news brings hope and relief, and we hope this information proves helpful to you.

What is the latest news about Saudi Oger refunding money to employees?

Saudi Oger is currently in the process of refunding money to its former employees
. If you are an ex-employee and have outstanding amounts, this is excellent news for you.

How can I claim my refund if I am in Saudi Arabia?

If you are in Saudi Arabia, visit Alinma Bank with your Saudi Oger company iqama, Company ID, passport with your claim number. You can print your claim number from https://claims.saudiogerb.com/.

What if I don’t have a claim number?

If you don’t have a claim number, you can call the customer number or send an email to claims@saudiogerb.com to inquire about your claim number. You can also visit https://saudiogerb.com/Get_Number/EN/ for assistance.

How can I claim my refund if I am outside Saudi Arabia?

If you are outside Saudi Arabia or do not have a claim number, you can fill out the form at https://ehqaq.sa/saudioger/?lang=en. Fill in the required information, and you will be able to see the details of your claim and application.

Where can I get more information?

For additional information, you can visit the official website https://saudiogerb.com/ and check their official Facebook page. This will provide you with more insights into the refund process.

Is there a helpline for assistance?

Yes, if you have any further questions or need assistance, you can reach out to the customer support helpline provided by Saudi Oger. Check their official website for contact details.


Disclaimer: Information on this site (Sarfaraz official) is for general purposes only. We do not guarantee accuracy and are not liable for any losses or damages resulting from its use. External links are provided for convenience; we do not endorse their content. Verify details through official channels, as the website and its contents may change without notice. as well as all above information is just for general and information purposes so for accurate information always visit the official Saudi Oger website.

How to Claim Saudi Oger Video Guide

Saudi Arabia lift 3 Years travel ban Updates Today from 2024

Earlier, the General Directorate of Passports put the ban in place because businessmen asked for it. They wanted to stop people from coming back if they didn’t return on time with their exit and reentry visa. The businessmen were worried that these delays were causing financial problems, like extra fees for permits and tickets. So, the government decided to stop people from coming back for three years if they didn’t follow the visa rules.

Riyadh – January 16, 2024 – Big news from Okaz newspaper! Saudi Arabia has changed a rule. Before, if -someone from another country left Saudi Arabia and didn’t come back before their visa expired, they couldn’t return for three years. But now, Okaz says that rule is gone!

The government made this change after listening to business people. These business people were worried because when workers don’t come back on time, it costs a lot of money for permits and tickets. Sometimes, it even leads to losing jobs and makes the job market unstable.

Now, if you want to leave Saudi Arabia and come back, there are some rules:

  • Pay all your traffic fines.
  • Don’t have any problems that stop canceling an old visa.
  • Don’t have a visa that is still valid.
  • Be in Saudi Arabia when you get the new visa.
  • Your passport should be valid for more than 90 days.
  • They need your fingerprint for the new visa.

Also you can visit Saudi Gazette for this news.


Disclaimer: The information provided in this report is based on Okaz newspaper’s coverage of the latest directives from the General Directorate of Passports as of January 16, 2024. Readers are advised to verify with official sources or legal authorities for the most up-to-date information, as changes in regulations may occur. Saudi Arabia travel ban lefts

What is Non-Conformance (NCR) Report?

Non-conformance reports or normally known as NCR are utilized and given by the QA/QC specialists or expert on location as well as stockroom to a concerned party to who strayed an arrangement or potentially determination of the development venture or distribution center materials.

Non-Conformance report is important as there will always be a construction team or subcontractor who say deliberately or unknowingly went off-plan due to the tight time schedule and or restrictions. Also, this report has to be issued as soon as possible even suggested on the same day for faster circulation of the document, thus, lesser time consumed for rectification.

Non-conformance reports are also issued to a contractor who, knowingly or deliberately used materials not approved by the client, a failure in the design and strength, construction methodology as per clients’ decision isn’t followed, any deviation to the client’s guidance concerning establishment grouping of works. And several other reasons.

Why Non-Conformance Report Necessary on Site?

It is important to give a Non-conformance Report to dispense with the mix-up or mistake made and simultaneously to record the remedial activity and preventive activity.

This is to determine issues nearby and disturbing us not to repeat a similar misstep. It will act as an alert.

The non-conformance report (NCR) is a document that is issued to a facility after they have been inspected by the state. The NCR is a summary of the inspection findings and any corrective actions taken at the site.

A facility may receive an NCR if they fail to comply with the requirements set forth by the state. An NCR is not a violation; rather, it is a notification that the facility failed to meet the standards set by the state.

An NCR is necessary because it provides the facility owner with documentation that their facility is in compliance with the rules and regulations set forth by the state, which helps them avoid future violations. In addition, an NCR is useful for the facility owner because it gives them information about what they need to do to correct any issues that were identified during the inspection.

In which situation the NCR is Issued?

There are a few kinds of circumstances that can be considered as NCR capable. You ought to constantly recall the circumstances, nonconformance implies the finished work isn’t according to the supported arrangement or drawing, not according to particular and not according to the necessity of Client and Plans. Then, at that point, distinguishing the Nonconformance would be simple.

A genuine illustration of this is in the determination it is referenced.

Membrane waterproofing to be applied on the balcony, but the actual application is “rubberized waterproofing” then it is obvious that application is a mismatch.

Another example is the height of the false ceiling in the approved drawing is 2.5 meters but in the actual installation is 2.4 then obviously it is non-compliant to the requirement.

Furthermore, there are a few circumstances that you will experience during the advancement of the undertaking.

What is the format of NCR?

The configuration of layout of Nonconformance report (NCR) can shift contingent upon your expert. Not all the specialist or Venture The board Expert purposes a comparable NCR Layout.

What is the purpose of Issuing Nonconformance?

The main purpose of issuing a Non-Conformance report is to correct the mistakes made at the site. The other object is to guarantee that the undertaking is following the Quality Administration Framework.

The organization you are associated with should be certify by the Worldwide Association for Normalization or ISO which is ISO 9001:2015: (QMR) Quality Management Requirements.

Nonconformance Report or NCR and Its Purpose

The purpose of nonconformance reports (NCRs) is to identify and correct deviations from established requirements, procedures, specifications, tolerances, design criteria, or other conditions that may affect product quality, performance, safety, or compliance with applicable regulations.

An NCR identifies and describes any deviation from the requirements, procedures, specifications or other conditions that could adversely affect the quality, performance, safety or compliance with applicable regulations of a product.

An NCR is not intended to be punitive nor is it intended to suggest that a particular action should be taken regarding the identified problem. Rather, an NCR is intended to assist the manufacturer in correcting problems and preventing recurrence of similar problems.

A nonconformity report is a written document describing a specific noncompliance with a requirement, procedure, specification, tolerance, design criterion, or other condition that affects the quality, performance, or safety of a product. A nonconformity report does not necessarily imply that a violation exists; rather, it indicates that a potential violation exists. Nonconformities may exist without violating any regulation.

A nonconforming product is one that fails to meet the requirements of a standard, regulation, or specification. In some cases, a nonconforming product may be acceptable under certain circumstances. However, if a nonconforming product is unacceptable under those circumstances, then the product is considered defective.

A nonconformance report is a written document that describes a specific nonconformance with a requirement, procedure or other condition that affects product quality, performance, or compliance with applicable laws, rules, regulations, or standards.

A non-confirmation report is not intended to be a punitive document. It is intended to help manufacturers improve their products and prevent recurrence of similar problems by identifying and correcting problems.

Summary of deliveries Important Topic for Storekeeper

Summary of deliveries: आज सबसे महत्वपूर्ण विषय पर जानने वाले है की स्टोर में मटेरियल कैसे प्राप्त करते है या रिसीव करते है साथ ही आज हम बताएंगे कि एक स्टोरकीपर या मटेरियल हैंडलर को मटेरियल रिसीव करते समय किन बातों पर ध्यान रखना चाहिए साथ ही साथ मटेरियल आइटम कोड या विवरण कैसे पता करें।

मटेरियल रिसीव करते समय सबसे जरूरी क्या होता है?

मटेरियल रिसीव करते समय सबसे जरूरी क्या होता है ये सवाल सयाद कम लोगो को पता होगा कि मटेरियल रिसीव करते समय हमें सबसे पहले अपने कंपनी का पीओ और समरी जरूरी होता है।

परचेज ऑर्डर (Purchase order) क्या है?

Purchase Order (P.O) Kya Hai?

सबसे पहले जान लेते हैं कि पीओ यानी परचेज ऑर्डर क्या है? और परचेज ऑर्डर से मटेरियल कैसे रिसीव किया जाता है।

आप स्टोरकीपर हो या कोई भी मटेरियल रिसीव करने के लिए पीओ यानी परचेज ऑर्डर की जरूरत सबको पड़ती है और परचेज ऑर्डर के बिना मटेरियल रिसीव नहीं होता है, अगर आप ने कर भी लिया तो इसे आपको काफी परेशानी असक्ती है।

क्योंकि सामग्री प्राप्त करते समय हमें मालूम होना चाहिए कि जो हम सामग्री प्राप्त कर रहे हैं वो हमारे कंपनी से कितना अनुरोध किया गया है और ये सामग्री किस प्रोजेक्ट या साईट के लिए मंगाया गया है।

परचेज ऑर्डर से मटेरियल चेक करने के फायदे?

अगर आप परचेज ऑर्डर से मटेरियल रिसीव करते हैं या आप परचेज ऑर्डर यानी पीओ जानते हैं तो इसे आपको बहुत फैदा होता है जैसे कि ये मटेरियल कितना आर्डर किया गया है, परचेज ऑर्डर से प्रोजेक्ट का नाम भी पता चलता है साथ ही साथ प्रोजेक्ट कोड और सबसे जरूरी उसकी यूनिट प्राइस की जानकारी मिल जाती है और भी बहुत कुछ है स्टेप बी स्टेप सीखेंगे।

डिलीवरी नोट और परचेज ऑर्डर में अंतर क्या है?

ये बहुत ही आसान सवाल है जिसे आपको जाना बहुत ही जरूरी है, डिलीवरी नोट हमें अपने कंपनी से नहीं बल्की सप्लायर से मिलता है, जिसे हमें देख कर मटेरियल रिसीव करके सप्लायर को अपने सिग्नेचर (Signature) और कंपनी के स्टैम के साथ वापस देना पड़ता है। ताकि उनको बाकि के पैसे कंपनी से लेने में और ये बताने में की ये सामान दे दिया गया है काम आता है।

जबकी परचेज ऑर्डर हमें अपने कंपनी से मिलता है या हमें खुद कंपनी के (ERP System) इरप सिस्टम से प्रिंट करना पड़ता है, जिसे देख कर हम मटेरियल की मिलान यानी मैच करते हैं कि सप्लायर का डिलीवरी नोट का डिस्क्रिप्शन और मटेरियल का डिस्क्रिप्शन हमारे खरीद ऑर्डर यानि Purchase order से मैच कर रहा है कि नहीं उसके बाद ही हम मटेरियल रिसीव करते हैं।

Summary of deliveries क्या है?

Summary of deliveries me open order ka kya matlab hota hai?

परचेज ऑर्डर के साथ आपको समरी भी देखनि पड़ती है, जिसे हम Summary of deliveries कहते है, जो कि कंपनी के (EPR System) इरप सिस्टम पे ये भी मिलता है जैसे हमारे लिए परचेज ऑर्डर जरूरी है वैसे ही हमें परचेस ऑर्डर समरी भी जरूरी है मटेरियल रिसीव करते हैं समय।

सामग्री प्राप्त करते समय Summary of deliveries क्यों जरूरी होता है?

मटेरियल रिसीव करते समय Summary of deliveries इस्लीए जरूरी होता है क्यों कि हो सकता है कि ये मटेरियल कंपनी के साइट पे किसी और स्टोर में रिसीव हुआ हो इसलिए हमें कन्फर्म करने के लिए और ऑन हैंड बैलेंस चेक करने के लिए इसकी जरूरत पड़ती है।

इसके बिना हम ये पता नहीं कर सकते कि ये सामग्री कितना प्राप्त हुआ है और कितना बाकि है या पहले से प्राप्त हो चूका है कि नहीं।

इसके मदद से हमें पता चलता है कि ये सामग्री का चालान हुआ है कि नहीं और हुआ है तो किसने और कहां किया है इसकी जानकारी हमें इसीसे मिलती है।

Summary of deliveries invoiced का क्या मतलब होता है?

Summary of deliveries invoiced का सबसे ज्यादा महत्व होता है, अगर आप मटेरियल हैंडलर है या स्टोरकीपर है तो आपको मटेरियल रिसीव करते समय समरी चेक करना चाहिए ताकि पता चले इसका इनवॉयस हुआ है कि नहीं यानी ये मटेरियल कंपनी में रिसीव हुआ है कि नहीं।

Summary of deliveries invoiced का मतलब होता है कि ये मटेरियल रिसीव हो चूका है और आप इसे दुबारा रिसीव नहीं कर सकते हैं।

Summary of deliveries Open order का क्या मतलब होता है?

Summary of deliveries में Open order का मतलब होता है कि ये मटेरियल अभी तक रिसीव नहीं हुआ है और आप इसे रिसीव कर सकते हैं, वही अगर आपको इनवॉइस्ड दिखता तो इसका मतलब है ये मटेरियल रिसीव हो चुका है और आपको इसे रिसीव नहीं करना चाहिए।

Purchase order confirmation kya hai?

परचेज ऑर्डर कन्फर्मेशन ये सारे प्रोसेस में अजता है, यानी सप्लायर से मटेरियल रिसीव करते समय कंपनी में किसी मटेरियल को रिक्वेस्ट के समय जिस प्रोसेस से गुजारना पड़ता है उसे ही परचेस ऑर्डर कन्फर्मेशन कहा जाता है ये मेरा मन्जिना है इसे से आम भाषा में परचेज ऑर्डर भी कहते हैं। परचेज ऑर्डर का दूसरा नाम ही परचेज ऑर्डर कन्फर्मेशन है जिसे हम एरप सिस्टम (Erp System) से प्रिंट करते हैं और सामग्री की जाच करते है और मालूमात पता करते है की इसकी क्या स्टेटस है।

उम्मीद करता हु ये पोस्ट आप सबको पसंद आएगी अगेर अच्छा लगे तो हमें जरुर कमेंट करे और अपनी राय दे।

P.O kya hota hai?

P.O का मतलब purchase order होता है, जिसे किसी कंपनी को सप्लायर से सामग्री लेने के लिए बनाना पड़ता है।

Summary of deliveries kya hai?

Summary of deliveries भी purchase order के तरह ही होता है लेकिन इसका इस्तेमाल तब किया जाता है जब सप्लायर से सामग्री रिसीव करनी होती है ताकि पता चले ये की सामग्री बाकि है या रिसीव हो चूका है।

Purchase order me kya kya likha jata hai?

Purchase order में कंपनी के सामग्री का नाम, उसकी राशी, मात्रा, कंपनी के साईट और प्रोजेक्ट के नाम, डिलीवरी लोकेशन, मोबाइल नंबर या ईमेल यानि कंपनी के डिटेल्स और अवश्यक सामग्री के बारे में लिखा होता है।

Forklift operator ka kya kaam hai 2023

Forklift Operator ka kya kaam hai: अगर आप फोर्कलिफ्ट ऑपरेटर का काम नहीं जानते है और फोर्कलिफ्ट ऑपरेटर के बारे में नहीं जानते है तो इस पोस्ट में हम बताएँगे आपको की फोर्कलिफ्ट ऑपरेटर का क्या काम होता है और फोर्कलिफ्ट ऑपरेटर कितनी सैलरी होती है, फोर्कलिफ्ट ऑपरेटर के लिए कितना पढ़ना पड़ता है या फोर्कलिफ्ट ऑपरेटर का काम कैसे होता है सब जानेंगे।

Forklift operator ka kya kaam hai

फोर्कलिफ्ट ऑपरेटर एक बहुत ही अच्छा और आसान जॉब है जिसमे एजुकेशन की कोई जरुरत नहीं है और काफी अच्छे पैसे कमाए जासकते है इस काम को सिख कर। फोर्कलिफ्ट पे काम करना बहुत आसान है और इसे कोई भी चला सकता है। विदेश में फोर्कलिफ्ट ऑपरेटर की काफी ज्यादा डिमांड है क्यूंकि सभी कम्पनी में माल लोड और अनलोड करने के लिए इसकी जरुरत पड़ती है और इसके बिना काम करना बहुत ही मुश्किल है। सबसे पहले इसके बारे में कुछ जान लेते है।

Forklift Operator ka kya kaam hai

फोर्कलिफ्ट में क्या क्या होता है?


फोर्कलिफ्ट को चलने से पहले इसके बारे में जानना चाहिए की इसमें क्या क्या होता है और किस तरह से काम करती है। फोर्कलिफ्ट में ऐसे बहुत से नाम है जो आपको याद होने चाहिए ताकि आप फोर्कलिफ्ट ऑपरेटर इंटरव्यू में आंसर इसका दे सके। interviewer आप से कुछ भी पूछ सकता है लेकिन सबसे ज्यादा आप से इसी के बारे में पूछ सकता है इसलिए इसके नाम याद होना जरुरी है जो की आपको आपके इंटरव्यू के साथ साथ आपके काम में भी मदद करेगा।

  • Mast
  • Overhead Guard
  • Lift Cylinder & Chain
  • Load Backrest
  • Carriage Side shifter
  • Forks
  • Lights
  • Operator Cab
  • Hood
  • Counterweight
  • Battery Compartment
  • Fram
  • Chain
  • Steering or Rear Wheel
  • Drive Wheels
  • Tilt Cylinder & Hydraulic Cylinder
  • Horn
  • Three Gear for loading and unloading.

यहाँ फोटो के साथ फोर्कलिफ्ट के बारे में जान देखे की इसमें कितने तरह के सामान होते है जो इसे काम करने में और इसमें शामिल होते है। किसी भी ऑपरेटर के लिए सबसे जरुरी होता है उस मशीन के बारे में जानना इसलिए आप सबसे पहले इसके पार्ट्स के बारे में जानकारी ले, दी हुई पिक्चर के अनुसार इसमें कुछ जरुरी जानकारी दी गयी है जो की जानना जरुरी है।

Forklift full review

फोर्कलिफ्ट कितने टन में होती है और कितने टन में आती है?


  • Forklift 1 Ton
  • Forklift 2 Ton
  • Forklift 3 Ton
  • Forklift 5 Ton
  • Forklift 6 Ton
  • Forklift 7 Ton
  • Forklift 10 Ton
  • Forklift 16 Ton

फोर्कलिफ्ट अलग अलग टन में आती है जैसे कंपनी अपने आवस्यकता अनुशार खरीदी जाती है और फोर्कलिफ्ट ड्राइवर भी इसके अलग अलग होते है उनकी काम करने की छमता इस्पे निर्भर करती है। एक कंपनी में कम से कम दो प्रोकलिफ्ट ऑपरेटर होते है जिसमे सबसे ज्यादा 3 Ton के फोर्कलिफ्ट ऑपरेटर होते है उसके बाद 7 Ton के फोर्कलिफ्ट ऑपरेटर होते है और अगर कोई बड़ी कंपनी होती है तो 10 Ton की भी फोर्कलिफ्ट ऑपरेटर रखती है।

सभी फोर्कलिफ्ट एक जैसे ही काम करती है लेकिन इनकी काम करने की छमता ज्यादा होता है और कैपेसिटी के अनुसार बड़ी होती है। 3 टन की फोर्कलिफ्ट छोटी होती है और इससे बड़ी 7 टन में होती है। 10 टन की फोर्कलिफ्ट इन सब से बड़ी होती है।


फोर्कलिफ्ट टन का मतलब क्या होता है?

फोर्कलिफ्ट टन में आती है क्यूंकि इसके काम करने की छमता उतनी होती है। कहने का मतलब है अगर 3 टन की फोर्कलिफ्ट अगर आप ले रहे है तो इससे आप 3 टन तक का काम कर सकते है यानि तीन टन तक आप वजन उठा सकते है।

3 टन से ज्यादा काम करने के लिए आप 7 टन का फोर्कलिफ्ट ले सकते है जो की काफी बड़ी होती है और इससे आप 7 टन तक का सामान उठा सकते है और इसकी छमता 7 टन तक होती है।

फोर्कलिफ्ट ऑपरेटर का काम कैसे सीखे?

फोर्कलिफ्ट का काम सिखने के लिए आप किसी भी इंस्टिट्यूट में जा कर सिख सकते है। जिस भी इंस्टिट्यूट में विदेश का काम सिखाया जाता है वहा आप भी एडमिशन लेकर ये काम आप सिर्फ 3 से 6 महीने में आसानी से सिख सकते है।

फोर्कलिफ्ट ऑपरेटर की सैलरी कितनी होती है?

एक फोर्कलिफ्ट ऑपरेटर की सालार काफी अच्छी होती है लेकिन अगर आप एक फ्रेशर और पहली बार विदेश जा रहे है तो आपकी सैलरी कम से कम 30,000 से 40,000 हजार रुपया में हो सकती है।

एक एक्सपीरियंस फोर्कलिफ्ट ऑपरेटर की सैलरी सऊदी अरबिया में 2,000 SAR – 3,500 SAR तक होती है ये डिपेंड करता है आपके एक्सपीरियंस पे और काम पे। अगर कंपनी अच्छी हॉट तो आप इस काम में काफी अच्छा पैसा कमा सकते है।

फोर्कलिफ्ट ऑपरेटर की सैलरी इंडिया में कितनी होती है स्टेट वाइज?

एक फोर्कलिफ्ट ऑपरेटर की एवरेज सैलरी इंडिया में 16,000 और इससे अधिक भी हो सकती है लेकिन कम्पनी के ऊपर निर्भर करता है की कम्पनी क्या ऑफर कर रही है। कभी ज्यादा भी हो जाता और कम भी निर्भर करता है एक्सपीरियंस पे।

फोर्कलिफ्ट ऑपरेटर की इंडिया में कितनी सैलरी है?


फोर्कलिफ्ट ऑपरेटर की इंडिया में भी अच्छा डिमांड है और आप इंडिया में भी रह कर अच्छा पैसा कमा सकते है। इंडिया में सभी स्टेट में इसके सैलरी एवरेज अलग अलग है कुछ एवरेज सैलरी नीच दी गयी है आप सभी के जानकारी के लिए ताकि आप इसके बारे में जान सके। फोर्कलिफ्ट ऑपरेटर की इंडिया में सैलरी स्टेट वाइज है।

फोर्कलिफ्ट ऑपरेटर की सैलरी इंडिया में

  1. फोर्कलिफ्ट ऑपरेटर कोलकाता सैलरी – 14,039 Per Month
  2. फोर्कलिफ्ट ऑपरेटर हैदराबाद तेलंगाना सैलरी – 16,639 Per Month
  3. फोर्कलिफ्ट ऑपरेटर पुणे महाराष्ट्र सैलरी – 19,801 Per Month
  4. फोर्कलिफ्ट ऑपरेटर बंगलुरु कर्नाटका – 17,766 Per Month
  5. फोर्कलिफ्ट ऑपरेटर मुंबई महाराष्ट्र सैलरी – 30,707 Per Month
  6. फोर्कलिफ्ट ऑपरेटर अहमदाबाद गुजरात सैलरी – 19,143 Per Month
  7. फोर्कलिफ्ट ऑपरेटर चेन्नई तमिलनाडु सैलरी – 30,305 Per Month

फ्रोकलिफ्ट ऑपरेटर की क्या जिम्मेवारी होती है?

फोर्कलिफ्ट ऑपरेटर का काम सामान को लोड करना अनलोड करना और उसे बताये अनुशार सही जगह पे स्टोर करना होता है। फ्रोकलिफ्ट ऑपरेटर को सेफ्टी की साथ मैटेरियल्स लोड करना और अनलोड करना पड़ता है क्यूंकि सामान अगर सही से लोड और अनलोड नहीं करेंगे तो टूटने की और छती ग्रस्त होने की संभावना होती है।

फोर्कलिफ्ट चालाते समय कुछ सावधानिया:


  • सामान को अनलोड करते समय ब्लेड को सही से लगाना चाहिए।
  • लोडिंग और अनलोडिंग के समय अपने आस पास के लोगो का ध्यान रहना चाहिए।
  • फोर्कलिफ्ट को ध्यान पूर्वक चलना चाहिए।
  • फोर्कलिफ्ट में तेल, सफाई और सही कंडीशन में काम करने के लिए रेडी होनी चाहिए।
  • फोर्कलिफ्ट में कोई दिक्कत आये तो उसे तुरंत ठीक करे नहीं तो मैकेनिक को खबर करे।
  • सामान ले जाते समय धयान रखे रैक और किसी भी तरह की छाती न हो ध्यान पूर्वक चलाये।
  • फोर्कलिफ्ट की सामान उठाने की छमता और उसकी डिस्टेंस की समझ होनी चाहिए।
  • फोर्कलिफ्ट पे कभी भी उसकी छमता से ज्यादा वजन नहीं उठाना चाहिए।
  • फोर्कलिफ्ट पे सामान उतारते समय अगर सेफ्टी बेल्ट उसे कर रहे तो फोर्कलिफ्ट के आगे सेफ्टी रखना चाहिए।
  • फोर्कलिफ्ट के इंस्टूरक्शन को फॉलो उप करना चाहिए।

फोर्कलिफ्ट ऑपरेटर की सर्टिफिकेट कैसी होती है?

फोर्कलिफ्ट ऑपरेटर की सर्टिफिकेट इंस्टिट्यूट के तरफ से मिलता है लेकिन अगर आप विदेश में जैसे सऊदी में काम करते है तो आपके पास TUV Certificate होना चाहिए और यही सर्टिफिकेट विदेश में मान्यता है और इसे बराबर रिन्यूअल करना पड़ता है।

TUV Certificate कैसा होता है?

TUV सर्टिफिकेट बहुत ही जरुरी होता है सभी मशीनरी ऑपरेटर के लिए वैसे ही फोर्कलिफ्ट ऑपरेटर के लिए ये सर्टिफिकेट जरुरी होता है और हर कम्पनी अपने ऑपरेटर को प्रोवाइड कराती है। TUV सर्टिफिकेट फॉर्मेट का नमूना निचे दिया गया है।

TUV Certificate Benefits?

  • Recognized Seal of Trust
  • Quality of Assurance
  • Competitive Advantage and Market Access

इस सर्टिफिकेट के बहुत ही ज्यादा फ़ायदा है इससे आपके काम का गुणवत्ता का पता चलता है आपकी काम की क्वालिटी का पता चलता है साथ ही साथ यह एक ट्रस्ट की पहचान है की आप सही तरीके से काम कर रहे है।

TUV Certificate Format
TUV CERTIFICATE SAMPLE

Acronym

TUV

TUV

TUV

TUV

TUV

Definition

Tactical Unmanned Vehicle

Technical University of Valencia

Techni Scher Uberwachungsverein

Total Use Value

Traditional Unionist Voice

Technical Inspection Association


1 से 2 टन – छोटी फोर्कलिफ्ट को क्या बोलते है?

छोटी फोर्कलिफ्ट को हैंड लिफ्टर बोलै जाता है जिसे हाथ से लिफ्टिंग की जाती है यानि किस सामान को उठाने के लिए इसे आप हाथ से आसानी से उठा सकते है। ये मैन्युअल होती है जो हाथो से चलायी जाती है।

हैंड पैलेट ट्रक इंडिया में भी उपलब्ध है जो अच्छे क्वालिटी में मिलते है और इसके कई फायदे जो आप आसानी से अकेले से कर सकते है। 1 टन से 2.5 टन तक का सामान एक अकेले आदमी के लिए उठाना संभव नहीं है इसलिए इस हैंड पैलेट के सहारे आप आसानी से उठा सकते है।

Sale

Best Hand Pallet Truck 2.5 Ton Price in India

FAQs.


एक फोर्कलिफ्ट कितने किलो उठा सकती है?

एक फोर्कलिफ्ट का कैपेसिटी अगर 7 टन है तो इतना तक की वजन उठा सकती है।

फोर्कलिफ्ट का दूसरा नाम क्या है?

फोर्कलिफ्ट का दूसरा नाम – लिफ्ट ट्रक, जितना, हाय-लो, फोर्क ट्रक, फोर्क होइस्ट और फोर्कलिफ्ट ट्रक भी कहा जाता है इंग्लिश में – lift truck, jitney, hi-lo, fork truck, fork hoist, and forklift truck.

फोर्कलिफ्ट ड्राइवर और फोर्कलिफ्ट ऑपरेटर में क्या अंतर है?

फोर्कलिफ्ट ड्राइवर और फोर्कलिफ्ट ऑपरेटर का काम एक ही होता है लेकिन फोर्कलिफ्ट ऑपरेटर सिर्फ अंदर काम करने में दिलचस्पी रखता है वही एक ड्राइवर इसका हेड होता है और बहार का कार्य जनता है की कैसे फोर्कलिफ्ट बहार चलाना है अगर फस जाये तो कैसे निकलना है।

फोर्कलिफ्ट का कार्य क्या है?

फोर्कलिफ्ट का काम सामान लोड और अनलोड करना होता है इसके साथ साथ रखे हुवे सामान को एक जगह से दूसरे जगह करना होता है। एक फोर्कलिफ्ट कितना भी वजन का सामान अपने छमता अनुसार उठा सकती है।

फोर्कलिफ्ट ऑपरेटर कौन है?

फोर्कलिफ्ट के साथ काम करने वाले व्यक्ति को फोर्कलिफ्ट ऑपरेटर कहा जाता है।

क्या फोर्कलिफ्ट चलाना आसान है?

फोर्कलिफ्ट चलना आसान है लेकिन इसमें काफी ज्यादा सावधानिया भी रखनी पड़ती है। सेफ्टी का ज्यादा ध्यान रखना पड़ता है।

कौन सा फोर्कलिफ्ट लाइसेंस सबसे अच्छा है?

विदेश में फोर्कलिफ्ट ऑपरेटर को TUV सर्टिफिकेट दिया जाता और TUV सर्टिफिकेट लेना जरुरी होता है। यही TUV सर्टिफिकेट लाइसेंस के तरफ काम करता है।

फोर्कलिफ्ट कितने तरह की होती है?

फोर्कलिफ्ट एक ही तरह की होती है इनका छमता अलग अलग होता है 3 टन से 16 टन तक और इससे अधिक हो सकती है। फोर्कलिफ्ट जैसे ही हैंड लिफ्टर ट्रक भी होती है लेकिन ये मैन्युअल होता है और हाथो से ऑपरेटर किया जाता है।

फोर्कलिफ्ट कितने टन की होती है?

फोर्कलिफ्ट 3 टन से लेकर 16 टन और इससे अधिक भी हो सकती है लेकिन सबसे ज्यादा 3, 7 और 10 टन तक ही यूज़ की जाती है और काम में आती है।

फोर्कलिफ्ट कैसा होता है?

फोर्कलिफ्ट 6 टायर में आती है जिसमे 4 टायर आगे होता 2 टायर पीछे होता है। फोर्कलिफ्ट ऑपरेटर और फोर्कलिफ्ट के बारे में ऊपर और अधिक पढ़े।

फोर्कलिफ्ट में कितने गियर होता है?

फोर्कलिफ्ट में 3 गियर होता है जो की लोडिंग और अनलोडिंग के काम में आता है।


Conclusion:

फोर्कलिफ्ट ऑपरेटर का एक अच्छा काम है और ये जॉब आप 10th के बाद भी सिख सकते है और अगर आपको पढ़ेने लिखने नहीं भी आता है तो आप आसानी से सिख सकते है। लेकिन थोड़ा बहुत पढ़ा लिखा होना जरुरी है। इस काम में सेफ्टी का ध्यान रखना पड़ता है सेफ्टी सबसे जरुरी है। फोर्कलिफ्ट ऑपरेटर का काम ज्यादा वेयरहाउस और सेल्लिंग अंदर ही होता है इस काम में ज्यादा बहार नहीं जाना पड़ता है लेकिन रिस्क भी रहता है अगर स्पेस कम हो तो सावधानी से काम करना पड़ता है।

अगर आपको ये पोस्ट अच्छी लगे या और अधिक जानकारी चाहिए तो हमे कमेंट करके बताये धन्यवाद्।

Treading Meaning in Hindi

Treading Meaning in Hindi: पहले Tread का अर्थ समझ लेते है की Tread क्या होता है?, ट्रेड में हम Noun और Verb दोनों समझेंगे। अगर बात करे Noun की तो Noun में – चाल, पद, गति, टायर के उप्पर का हिस्सा, कदम ये सब Noun में आते है और इसका अर्थ होता है।

Treading Meaning in Hindi

Verb में – कदम रखना, उप्पर चलना, रास्ता बनाना, चलकर रास्ता बनाना, पैर उठाना, कुचल देना, किसी वस्तु के ऊपर से होकर चलना, कुचलना या कुछ चलना ये सब Verb में आते है और इसका अर्थ होता है।

जैसे आप ये कहना चाहते है सावधान रहे तो या फूलों पे ना चले या फूलों को न कुचल दे तो इसका इंग्लिस में अर्थ होगा।

Examples:-

सावधान रहे फूलों पे न चले। Be careful not to tread on the flowers.
फसलों पे न चले। Don’t tread on the crops.

Treading meaning in Hindi


ट्रेडिंग का मतलब होता है ट्रेड करने वाला या ट्रेड करते हुए होना ये इसका अर्थ होता है, यानि Tread का Present Participle Ing फॉर्म होती है Treading और Tread का अर्थ ऊपर दिया गया है की इसका अर्थ क्या होता है।

Examples:-

वह जूतों से कीचड़ रौद रहा था। He was treading mud with his shoes.
किसान अंगूर कुचल रहे थे। The peasants were treading the grapes.

Plural of Tread


Treads का क्या अर्थ होता है?

Treads का क्या अर्थ होता है ये भी जानना जरुरी है। Treads को दो तरह से इस्तेमाल किया जा सकता है।

एक से ज्याद Tread को हम Treads कहते है और Tread का अर्थ होता है चाल, पद, गति और भी अधिक इसके अर्थ होते है जो की आप सबको पहले ही बता दिया गया है। एक से ज्यादा चालों को गतियों को हम Treads कहते है। इसके अलावा आप जो Gym में Exercise करने के लिए या चलने के लिए जिस मशीन का इस्तेमाल करते है उसे भी Tread (Treading Machine) कहा जाता है जैसे की निचे के पिक्चर में आपको दिया गया है ताकि आप समझ सके।

Tread को Verb के रूप में भी इस्तेमाल किया जाता है। Verb के रूप में जब हम Tread का इस्तेमाल Present in definite Tense में He, She, It या Singular third person के साथ करते है तो rule के according इसके साथ S लगाते है जिससे Treads बनता है।

Third person singular of Tread: कदम रखना, ऊपर चलना, पैर उठाना, कुचल देना और भी इसके उदहारण आपको ऊपर पहले ही दे दिया गया है।

Tread in Value का क्या मतलब होता है?

Tread in Value का मतलब अगर आप एक लैपटॉप ख़रीदे है और वह लैपटॉप काफी पुरानी हो गयी है अब आप उस पुराने लैपटॉप उसे देकर नया लैपटॉप लेना चाहते है तो यहाँ जो आपके पुराने लैपटॉप का कीमत लगेगा और इसी कीमत को जो है Tread in Value कहा जायेगा।

Example:

मन लीजिये Lulu Mall में कोई ऑफर चल रहा हो जिसमे कहा गया हो की पुराण मोबाइल लाइए और नया ले जाइये तो इसमें अब क्या होगा आपके पुराने मोबाइल की Price 5,000 रुपया है और नया मोबाइल जो आप लेना चाहते है उसकी Price 15,000 रुपया है तो इसमें 5,000 कम करके आपको ये नया मोबाइल 10,000 में दी जाएगी और यहाँ पे जो 5,000 जो discount मिलेगा वो आपके पुराने मोबाइल की कीमत होगी और इसी कीमत को Tread in Value कहा जायेगा।

Trod Meaning


Trod Meaning in Hindi

Trod का मतलब Tread का Past होता है यानि की Tread की Second form को ही Trod कहते है दूसरे सब्दो में Tread के Past Sentence को Trod बोलै जाता है।

Example:-

मैंने गलती से उसके पैर पे पैर रख दिया।I Trod on his foot by Mistake.

यानि Tread के Past में जो कुछ भी घटना घटती है उसे Trod कहते है। इस तरह से आप Trod और Tread के बारे में अब समझ गए होंगे।


Trade का मतबलब क्या होता है?

ये Trade दूसरे Tread से बिलकुल अलग है दोनों में A और E का फर्क है और इस Trade के बारे में इसीलिए बता रहे है ताकि आपके पास कोई Confusion न रहे।

इस Trade का अर्थ होता है किसी तरह की लेन – देन, व्यापर, व्यापारिक, कारोबार करना, व्यापर करना

व्यापार आर्थिक अभिनेताओं के बीच वस्तुओं या सेवाओं के स्वैच्छिक आदान-प्रदान को संदर्भित करता है। चूंकि लेन-देन सहमति से होता है, इसलिए व्यापार को आम तौर पर दोनों पक्षों के लाभ के लिए माना जाता है। वित्त में, व्यापार प्रतिभूतियों या अन्य संपत्तियों को खरीदने और बेचने को संदर्भित करता है।

व्यापार के उदाहरण क्या है?

व्यापार: मान लीजिए कि दो लोग हैं, अमन और रमन। रमन के पास भोजन है लेकिन उसे ऊन की आवश्यकता है जबकि अमन के पास ऊन है लेकिन उसे भोजन की आवश्यकता है। इसलिए अमन और रमन एक दूसरे के साथ भोजन और ऊन का आदान-प्रदान करेंगे ताकि अमन को भोजन मिले और रमन को ऊन मिले जिससे दोनों संतुष्ट हों। यह व्यापार का एक आदर्श उदाहरण है।

अब उम्मीद करता हु आप सबको इसके बारे में समझ आगयी होगी तो अगर आपको ये पोस्ट अच्छा लगे तो हमे लिख करके बताये कमेंट करे और अगर कुछ सही करना हो तो वो भी लिखे हम उसे सही करने की जल्द कोसिस करेंगे।

Also Read:

Ek din me 5000 kaise kamaye

Self-improvement tips to boost your career.

NCR full form in construction in Hindi

Non-Conformance Report हिन्दी में

NCR full form in construction in Hindi इसका मतलब बाद में जानेगे पहले सबसे जरुरी बात जान ले की क्या है और कैसे इस्पे काम किया जाता है। क्या आपको पता है की किसी भी कंपनी में एक Non-Conformance Report भी आता है और इसे कैसे हैंडल करते है ये बहुत कम लोगो को ही पता है की Non-Conformance Report क्या होता है। अगर आपको भी नहीं पता तो आज इस पोस्ट के माध्यम से आप भी सब जान जायेंगे और ये जानना बेहद जरुरी है।


Non-Conformance एक ऐसा condition है जिसमे कोई भी products, process, project और component उसके स्टैण्डर्ड पैरामीटर को डिवेट करता है।

Product और process में कुछ गलत होना या हुवे काम को Non-Conformance बोल सकते है।

Example:

अगर आप किसी कंपनी में किसी supplier से या online कोई product order करते है और वो product किसी और brand में आपको मिलता है तो इसे Non-Conformance कह सकते है।

Technical Non-Conformance Report Hindi me

किसी कंपनी के purchaser ने किसी TATA कंपनी के supplier को अपनी कंपनी के लिए कोई product या materials request किया जिसमे उसने 120cm थिकनेस में TATA कंपनी से मंगाया लेकिन जब आप product received करते है तो आपको किसी और कंपनी और manufacturer का मिलता है। ऐसे काम को आप Technical Non-Conformance कह सकते है और बोला जाता है।

Types of Non-Conformance

Types of Non-conformances इसके assurance के हिसाब से बनाये गए है जैसे निचे दिया गया है।

  • NC at Inward

NC at Inward का मतलब incoming inspection के दौरान कुछ deviations मिलना

  • NC at Supplier

NC at Supplier का मतलब अगर हमारे कंपनी ने बहरी supplier को अगर कुछ प्रोडक्ट बनाने को दिया है और हम उस प्रोडक्ट के इंस्पेक्शन के लिए वह जाते है और उन inspection में कुछ deviations मिलता है तो उसे हम NC at Supplier के Category में डालते है।

  • NC in Process

NC in Process का मतलब In Process करते समय Process में कुछ deviations मिलना।

ये जितने भी Non-Conformance process है ये note किये जाते है और process को note करने को Non-Conformance कहते है और इस report को Non-Conformance report कहा जाता है।


Non-Conformance Report
Non-Conformance Report

डिज़ाइन इंजीनियर और डिज़ाइन हेड जो NC फॉर्म होता है उनको High Risk और Low Risk के Category में Categories करते है। और इसके हिसाब से manufacturing इंजीनियर अगर रिपेयर पॉसिबल है तो उसके ऊपर रिवर करेगा और उसको Quality इंजीनियर को इंस्पेक्शन के लिए ऑफर करेगा।

Quality इंजीनियर उसे चेक करके इन्फॉर्म करता है की वो रिपेयर हो सकता है की नहीं या रिपेयर acceptable है की acceptable नहीं है।

अगर Raw materials में कोई प्रॉब्लम है और अपने identified कर लिया है लेकिन Production हेड या Purchasing हेड आपके ऊपर दबाव डालते है उस मैटेरियल्स को एक्सेप्ट करने के लिए तो उस वक़्त आपको एक NCR भरना पड़ता है उसमे प्रॉब्लम लिखना है जो भी आपको identified हुआ है और वो एक्सेप्टेन्स के ऊपर प्रोडक्शन हेड या परचेस हेड का signed लेना है।

ताकि फ्यूचर में कभी भी उस डिफेक्ट के वजह से कुछ भी प्रॉब्लम या समस्या आती है तो आपके पास यही signature और NCR पेपर आपके पास प्रूफ रहेगा की आपने receive के टाइम ये प्रॉब्लम identified किया था लेकिन HOD ने उसे accept किया था।

इस तरह से आप कभी भी किसी दुविधा में कभी नहीं फसेंगे जिन्होंने signature किया है और अनुमति दी थी वही सिर्फ फसेंगे। इसलिए इस प्रोसेस को जरूर करे ताकि आप ऐसे समस्या में न फसे।

Non-Conformance Report Sample

यह सब प्रोसेस के बाद आपको ये भी देखना है की same प्रॉब्लम में रिपीट हो रहा है की नहीं तो दोस्तों ये सब प्रोसेस को आप NC हैंडलिंग प्रोसेस कह सकते है।


2. NCR in construction in Hindi

सबसे पहले में बता दू आपको की NCR कंपनी में सबसे जरुरी होता है इसी के माध्यम से कंपनी में काम करने की इस्थिति का पता चलता है की कंपनी में किये गए काम या हो रहे काम सही चल रहा है, तथा इसके साथ साथ कंपनी में चल रहे काम सही तरीके से चल रहा की नहीं क्या क्या गलती हुई है इन सब मुद्दों को देखना ही NCR में आता है।

NCR किसी कंपनी के लिए बहुत जरुरी होता है और इसके बिना कंपनी का आगे बढ़ना और प्रोफ़ेशनल बनना मुश्किल माना जा सकता है क्यूंकि NCR रिपोर्ट के माध्यम से आपके काम का पता लगता है की आप किस तरह से काम कर रहे और जो काम कर रहे वो सही चल रहा की नहीं। जिससे कोई आगे घटना न घटे और कंपनी किसी लॉस में न जाये यानि किसी तरह का कंपनी को खामियाज़ा न भुगतना पड़े।


NCR full form in construction in Hindi

इसका मतलब Non-Conformance Report होता है और ये लगभग सभी कंपनी में apply है और सभी कंपनी को देना पड़ता है।

NCR रिपोर्ट अगर सही मिलता है तो ये बहुत अच्छी बात है क्यूंकि इससे आपके काम का Quality और काम का सही में मालूम होने का पहेचान है और इससे कंपनी की छवि कभी ख़राब नहीं होती क्यूंकि इस रिपोर्ट के मध्य से कंपनी की Quality का भी पता चलता है। जो की आगे सबमिट किया जाता है।

What Is NCR Report in Company – Hindi

एनसीआर (गैर-अनुपालन रिपोर्टिंग) रिपोर्ट एक दस्तावेज है जो संघीय नियमों के साथ किसी कंपनी द्वारा किसी भी गैर-अनुपालन का विवरण देता है। इसका उपयोग आंतरिक अनुपालन उद्देश्यों के लिए किया जाता है

How to make an NCR report?

एनसीआर बनाने के दो मुख्य तरीके हैं: मैन्युअल रूप से और इलेक्ट्रॉनिक रूप से। मैन्युअल रिपोर्ट हाथ से लिखी जाती हैं इलेक्ट्रॉनिक रिपोर्ट सॉफ़्टवेयर प्रोग्राम का उपयोग करके उत्पन्न की जाती हैं। दोनों विधियों के लिए बहुत काम और विशेषज्ञता की आवश्यकता होती है।


What does NCR Report mean In Hindi?

“एनसीआर” का संक्षिप्त नाम “वर्तमान रिपोर्टिंग नहीं” है। इसका मतलब है कि कंपनी ने प्रतिभूति एवं विनिमय आयोग (एसईसी) के पास अपनी वार्षिक रिपोर्ट दाखिल नहीं की है। यदि कोई कंपनी अपनी वार्षिक रिपोर्ट दाखिल करने में विफल रहती है, तो उसे दंड का सामना भी करना पड़ता है। इन दंडों में जुर्माना और यहां तक कि जेल का समय भी शामिल है।

What is an NCR Report in company?

नॉट करंट रिपोर्टिंग गैर-अनुपालन का एक रूप है जो तब होता है जब कोई कंपनी वित्तीय वर्ष की समाप्ति के बाद 15 दिनों के भीतर प्रतिभूति और विनिमय आयोग (एसईसी) के साथ अपनी वार्षिक रिपोर्ट दर्ज करने में विफल रहती है। इस प्रकार के गैर-अनुपालन को अक्सर “वर्तमान रिपोर्टिंग नहीं” के रूप में जाना जाता है क्योंकि कंपनी ने पिछले वित्तीय वर्ष के लिए अपनी वार्षिक रिपोर्ट दायर नहीं की है।

What is the full form of ncr in company?

अगर आप किसी कंपनी में काम करते है और आपको पता नहीं है की एनसीआर (NCR) क्या होता है तो आपके लिए जानना जरुरी है। क्यूंकि किसी भी कंपनी में आप काम कर रहे हो ये रिपोर्ट सबके लिए बनता है और सभी को हर साल इसकी तयारी करनी पड़ती है ताकि इसकी अच्छी रपोट मिल सके।

NCR – का पुर नाम Non-Confirmation Report होता है और इसका पूरा नाम भी यही होता है जो की किसी कंपनी में काम के अंतर्गत आता है और इसके लिए कंपनी में अलग डिपार्टमेंट भी रहता है या अकाउंट डिपार्टमेंट के माध्यम से करके भेजा जाता है।

FAQ.

NCR का पूरा नाम क्या होता है?

Non-Confirmation Report

NCR के कितने टाइप होते है?

NCR के 3 तीन टाइप होते है।

NCR के कौन कौन से टाइप होते है?

1. NC at Inward
2. NC at Supplier
3. NC in Process

Types of purchase orders in Hindi

Types of purchase orders in Hindi (Purchase Orders)पीओ एक दस्तावेज है जिसमें ग्राहक द्वारा दिए गए विशिष्ट आदेश के बारे में जानकारी होती है। ग्राहक द्वारा आपूर्तिकर्ता को ऑर्डर देने के बाद एक पीओ बनाया जाता है। आदेश के विवरण की पुष्टि करने के लिए आपूर्तिकर्ता को एक पीओ भेजा जाता है। एक बार जब आपूर्तिकर्ता पीओ प्राप्त कर लेता है, तो वे एक पुष्टिकरण वापस भेजते हैं कि वे पीओ की शर्तों को स्वीकार करते हैं या नहीं। यदि आपूर्तिकर्ता पीओ को स्वीकार करता है, तो आपूर्तिकर्ता पीओ में निर्दिष्ट खरीदार के पते पर ऑर्डर किए गए आइटम भेजता है।

Purchase Order (P.O) Kya Hai?

Types of purchase orders in Hindi?

व्यवसाय में चार प्रकार के क्रय (Purchase order) आदेश होते हैं

  • Standard Purchase orders (P.O)
  • Planned Purchase orders (P.O)
  • Blanket Purchase orders (P.O)
  • Contract Purchase orders (P.O)

Standard Purchase orders (SPO)

आप आम तौर पर विभिन्न मदों की एक बार की खरीद के लिए मानक खरीद आदेश (Standard Purchase orders) बनाते हैं। आप मानक खरीद आदेश तब बनाते हैं जब आप अपने लिए आवश्यक वस्तुओं या सेवाओं का विवरण, अनुमानित लागत, मात्रा, वितरण कार्यक्रम और लेखांकन वितरण जानते हैं। यदि आप एन्कम्ब्रन्स अकाउंटिंग का उपयोग करते हैं, तो आवश्यक जानकारी ज्ञात होने के बाद से खरीद आदेश को भारित किया जा सकता है।

Planned Purchase orders (PPO)

एक नियोजित खरीद आदेश एक एकल स्रोत से वस्तुओं या सेवाओं को खरीदने के लिए एक दीर्घकालिक समझौता है। आपको अस्थायी वितरण कार्यक्रम और उन वस्तुओं या सेवाओं के सभी विवरण निर्दिष्ट करने होंगे जिन्हें आप खरीदना चाहते हैं, जिसमें शुल्क खाता, मात्रा और अनुमानित

Blanket Purchase orders (BPO)

आप वास्तविक ऑर्डर देने के लिए ब्लैंकेट खरीद समझौते के विरुद्ध एक ब्लैंकेट रिलीज़ जारी कर सकते हैं (जब तक कि रिलीज़ ब्लैंकेट अनुबंध की प्रभावी तारीखों के भीतर है)। यदि आप एन्कम्ब्रन्स एकाउंटिंग का उपयोग करते हैं, तो आप प्रत्येक रिलीज़ को एनकम्बर कर सकते हैं।

Contract Purchase orders (CPO)

आप अपने आपूर्तिकर्ताओं के साथ विशिष्ट नियमों और शर्तों पर सहमत होने के लिए उन वस्तुओं और सेवाओं को इंगित किए बिना अनुबंध खरीद समझौते बनाते हैं जिन्हें आप खरीद रहे होंगे। आप बाद में अपने अनुबंधों को संदर्भित करते हुए मानक खरीद आदेश जारी कर सकते हैं, और यदि आप भार लेखा का उपयोग करते हैं तो आप इन खरीद आदेशों को भारित कर सकते हैं। नियोजित खरीद आदेश


close up photo of programming of codes
Photo by luis gomes on Pexels.com

Purchase orders ka upyog kaun karta hai?

Purchase orderएक खरीद आदेश एक वाणिज्यिक दस्तावेज है और एक खरीदार द्वारा एक विक्रेता को जारी किया गया पहला आधिकारिक प्रस्ताव है, जो उत्पादों या सेवाओं के प्रकार, मात्रा और सहमत कीमतों को दर्शाता है। इसका उपयोग बाहरी आपूर्तिकर्ताओं से उत्पादों और सेवाओं की खरीद को नियंत्रित करने के लिए किया जाता है।

Purchase order – अकाउंट डिपार्टमेंट के द्वारा बनाया जाता है या यु कहे किसी कंपनी के द्वारा बनाया जाता है जब उसे किसी सामग्री की अवासकता पड़ती है तो उसके बाद ये सप्लायर को भेजा जाता है ताकि Purchase order के हिसाब से सामग्री जारी की जा सकते और कंपनी में डिलीवर की जा सके।

जब सप्लायर मैटेरियल्स डिलीवर करता है अपने डिलीवरी नोट और Purchase order के माध्यम से तो Materials Receive करते समय कंपनी के Summary of deliveries की भी जरुरत पड़ती हैजिसके बारे में हमने पहले ही बता दिया है दुसरे पोस्ट और आर्टिकल के माध्यम से

Purchase orders ka istemal kyu kiya jata hai?

एक खरीद आदेश (पीओ) एक कानूनी दस्तावेज है जो एक खरीदार द्वारा बनाया जाता है और उसे भेजा जाता है
विक्रेता उत्पादों और/या सेवाओं को खरीदने के अपने इरादे की पुष्टि करने के लिए।


पीओ दस्तावेज़ खरीदार क्या चाहता है उससे संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी ट्रैक करता है, खरीदने के लिए। इसमें आवश्यक वस्तुओं की मात्रा और प्रकार, साथ ही साथ शामिल हैं भुगतान शर्तें और वितरण विवरण। खरीदार पुष्टि कर रहा है कि वे विक्रेता को क्या देना चाहते हैं। वे भी


बाद की तारीख में आइटम के लिए भुगतान करने के लिए सहमत होना (सहमति भुगतान शर्तों के आधार पर)। खरीदार को क्रेडिट देते समय विक्रेता सुरक्षा के रूप में पीओ का उपयोग करता है क्योंकि खरीदार कानूनी रूप से उत्पादों और सेवाओं के लिए भुगतान करने के लिए बाध्य है जब वे कर रहे हैं पहुंचा दिया।

Purchase orders ke kya kya faide hai?

खरीद आदेश एक कानूनी समझौता है जो खरीदार और विक्रेता दोनों की सुरक्षा करता है। एक बार विक्रेता द्वारा स्वीकार किए जाने के बाद, खरीद आदेश कानूनी रूप से बाध्यकारी हो जाता है


अनुबंध। यदि कोई मौजूदा अनुबंध नहीं है जो बीच के संबंध को नियंत्रित करता है खरीदार और विक्रेता, खरीद आदेश का उपयोग अनुबंध के स्थान पर किया जा सकता है। इस खरीदार और विक्रेता दोनों के लिए कानूनी सुरक्षा प्रदान करता है।


पीओ का उपयोग करने से खरीद-से-भुगतान की पूरी प्रक्रिया के माध्यम से खरीदारी को ट्रैक करने में भी मदद मिलती है। प्रत्येक पीओ को अपना विशिष्ट नंबर दिया जाता है, जिसे क्रय आदेश के रूप में जाना जाता है


संख्या, प्रत्येक के वितरण और भुगतान को ट्रैक करने में खरीदार और विक्रेता दोनों की सहायता करने के लिए खरीद के अनुरोध। विभिन्न प्रकार के खरीद आदेश हैं, सबसे सामान्य मानक हैं खरीद आदेश और कंबल खरीद आदेश। मानक खरीद आदेश कवर ए


बिना किसी पुनरावृत्ति के विशिष्ट खरीद। कंबल क्रय आदेश के लिए उपयोग किया जाता है उत्पादों या सेवाओं को निरंतर आधार पर खरीदने के लिए खरीदारों को प्रतिबद्ध करें जब तक कि निश्चित सीमा तक पहुँच जाता है।

Purchase orders kaise kaam karta hai?

अधिकांश संगठनों के लिए, क्रय आदेश खरीदारी का दूसरा चरण है आदेश प्रक्रिया। यह खरीद आदेश अनुरोध के रूप में शुरू होता है, जिसे खरीद मांग के रूप में भी जाना जाता है। प्रति खरीद आदेश बनने के लिए इसे पहले खरीदारी के भीतर सही स्वीकृति मिलनी चाहिए खरीद की पुष्टि करने वाली कंपनी बनाई जानी चाहिए।

आम तौर पर इसमें ए शामिल होता है आवश्यकताओं के साथ-साथ शेष बजट के विरुद्ध लागत की समीक्षा खरीद से संबंधित विभाग। लेकिन, कम मूल्य के ऑर्डर के लिए हो सकता है कोई अतिरिक्त अनुमोदन की आवश्यकता नहीं है।

डिमांड डिमांड फॉर्म खरीदने के समान एक दस्तावेज है जो रूपरेखा तैयार करता है कि क्या खरीदा जाना चाहिए, कितना, खरीदना चाहिए से, और इसी तरह।

लेकिन यह खरीदने वाली कंपनी के भीतर एक आंतरिक दस्तावेज है और बाहरी रूप से साझा नहीं किया जाएगा। एक बार सब्सक्रिप्शन होने के बाद, परचेज़ डिमांड एक परचेज़ ऑर्डर को छिपा दिया जाता है जो हो सकता है शिकायत को भेजा गया।

Purchase Orders ka upyog kaise kare?

खरीद प्रक्रिया को सरल बनाने के लिए खरीद आदेश का उपयोग किया जाता है। यहाँ एक साधारण है
पीओ प्रक्रिया का उदाहरण:

  • स्टाफ के एक सदस्य को पता चलता है कि कार्यालय में स्थिर वस्तुओं की कमी है और प्रिंटर की स्याही खत्म होने वाली है। इसलिए वे एक खरीद अनुरोध बनाते हैं और अनुमोदन के लिए इसे उनके प्रबंधक को भेजें।

  • प्रबंधक खरीदारी असाइन करते हुए खरीदारी की समीक्षा करता है और उसे अनुमोदित करता है क्रम संख्या।

  • खरीद आदेश आपूर्तिकर्ता को या तो कागज पर या एक का उपयोग करके भेजा जाता है समर्पित इलेक्ट्रॉनिक खरीद आदेश प्रणाली।

  • आपूर्तिकर्ता खरीद आदेश की समीक्षा करेगा और अपनी इन्वेंट्री की जांच करेगा देखें कि क्या उनके पास पहले अनुरोधित वस्तुओं की आवश्यक मात्रा है पीओ को स्वीकार करना

  • आपूर्तिकर्ता पीओ नंबर सहित खरीदार को आइटम भेजेगा पैकिंग पर्ची एक संदर्भ के रूप में।

  • आपूर्तिकर्ता एक चालान जारी करेगा, इसमें एक अद्वितीय चालान होना चाहिए संख्या, मदों के लिए भुगतान का अनुरोध और पर पीओ नंबर शामिल करें एक संदर्भ के रूप में चालान।

  • खरीदार सहमत भुगतान शर्तों के आधार पर वस्तुओं के लिए भुगतान करता है खरीद आदेश

Purchase orders pe kya kya jankari deni padti hai?

  • खरीदार की कंपनी का नाम
  • विक्रेता की कंपनी के नाम सहित विक्रेता की जानकारी खरीदे जाने वाले उत्पाद (उत्पादों) या सेवा (सेवाओं)।
  • ब्रांड नाम, SKU, मॉडल नंबर आदि की विशिष्टताएँ।
  • खरीदी मात्रा
  • प्रति इकाई मूल्य
  • डिलीवरी की तारीख – जब ऑर्डर डिलीवर किया जाना चाहिए
  • डिलीवरी का स्थान – जहां ऑर्डर को डिलीवर किया जाना चाहिए, या शिपिंग
    पता, और प्रासंगिक संपर्क जानकारी
  • बिलिंग पता – जहां विक्रेता को डिलीवरी के बाद चालान भेजना चाहिए
  • छूट – अनुबंध की शर्तों के अनुसार आदेश पर लागू होने वाली कोई भी छूट वेंडर
  • भुगतान की शर्तें – जब चालान का भुगतान किया जाएगा, जैसे कि प्राप्त होने पर
    वितरण, शुद्ध 30 या शुद्ध 60, या एक विशिष्ट देय तिथि – आमतौर पर के अनुरूप
    खरीदार और विक्रेता के बीच अनुबंध की शर्तें

ऊपर के सभी बातें आपको purchase order लिखी रहती है जिससे की supplier को materials डिलीवर करने में आसानी होती है। उम्मीद करता हु ये पोस्ट आपको पसंद आयी होगी। अपनी राय देने के लिए आप कमेंट कर सकते है।

Construction Materials Name | Top Construction Materials Pictures 2022

Here is the sample of some items which is related to the construction materials. if you want to know more about the Contruction materials lets scroll down read. In this article you will see some sample picture of following mentioned materials name.

(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});

Construction Materials Name:

  • Bitumen Membrane
  • Rock Walls
  • Geotextile
  • Extruded Polysterene
  • Expanded Polyethelene
  • Protection Board or Filler Board
  • Liquid Membrane
  • PVC Water Stop
  • Foam Backing Rods
  • Polyethylene Sheet
  • Flashing Aluminum

Construction Materials – Bitumen Membrane

The Benefits of Using Bitumen Membranes for Waterproofing

Bitumen membranes are waterproofing materials that are commonly used in roofing applications. These membranes are composed of asphalt-based compounds that have been modified to make them water-resistant. There are many different types of bitumen membranes, each with unique characteristics. We’ll go over some of the benefits of using these membranes in your marijuana garden.

 1. Waterproofing

Waterproofing is an important aspect of any cannabis garden. When it rains, water runs off the surface of the ground and away from the plants. If the ground is not properly waterproofed, then rainwater could potentially damage the roots of the plants. A membrane can help prevent this from happening.

 2. Drainage

Another benefit of using a membrane is its ability to drain excess water from the soil. As the plants grow, they require more water than the soil can provide. If the soil does not drain well, then the excess water may cause root rot. A membrane can help alleviate this problem.

 3. Airflow

 A final benefit of using a membrane in your garden is its ability to allow airflow. Without proper airflow, the soil can become hot and dry. This can lead to problems like mold and fungus. A membrane helps keep the soil cool and moist.


Construction Materials – Geotextile

Geotextile fabric Home Depot

1. What is geotextile?

 Geotextiles are fabrics that have been treated to make them water-resistant and durable. These materials are commonly used in construction projects, landscaping, and farming. Geotextiles are often used in agriculture to protect crops from erosion and runoff.

 2. Why use geotextile? 

 Using geotextile is a great way to protect your garden from erosion and runoff. If you live near a body of water, you may want to consider using geotextile to prevent flooding. You can also use geotextile to help control weeds and keep unwanted vegetation out of your yard.

 3. How do I choose the right geotextile? There are many different types of geotextile products on the market today. To find the best option for your project, you need to know what type of application you’re looking for. Here are some things to think about before choosing a product:

 • Waterproofing – Is your goal to create a barrier between your garden and rainwater? Or would you prefer to allow water to soak into the ground?

 • Erosion Control – Do you want to reduce the amount of sediment flowing off your property? Or would you rather let the sediment stay where it belongs?

 • Weed Control – Does your goal involve keeping weeds away from your garden? Or would you instead like to attract beneficial insects and wildlife to your space?

 • Drainage Control – Are you trying to prevent excess water from pooling around your home? Or would you like to encourage water to drain away from your house?

 • Soil Retention – Do you want to hold back the topsoil? Or would you just like to add extra nutrients to your garden?

 • Other Uses – Can you imagine using geotextile for something else besides gardening? Maybe you could build a fence, cover a driveway, or even line a road.


Construction Materials – Texas rock wall

1. Texas Rock Wall

The Texas rock wall is a natural stone wall built using local materials. These walls are built out of limestone and sandstone boulders. These rocks were chosen due to their durability, hardness, and ease of use. The stones are stacked vertically and horizontally to create a solid foundation. The top layer of the wall is covered with gravel to prevent erosion.

 2. Limestone

 Limestone is a sedimentary rock composed primarily of calcite, aragonite, and dolomite. It is often white or gray in color and is formed deep underground over millions of years. Limestone is a great material for building a rock wall because it is durable and hard wearing. It is also inexpensive and abundant in many parts of the world.

 3. Sandstone

 Sandstone is a sedimentary rock composed of quartz grains and clay minerals cemented together by iron-rich minerals. It is often reddish brown in color and is formed near the earth’s surface. Sandstone is a good choice for a rock wall because it provides a strong base and is relatively inexpensive.

 4. Gravel

 Gravel is a mixture of small pebbles and sand. It is commonly used for landscaping purposes and can be used to build a rock wall. If you want to make sure your wall is stable, then you should add some gravel to the bottom.

 5. Waterproofing

 Waterproofing refers to any substance that prevents water from entering a structure. A waterproofing membrane is a type of waterproofing product that is applied to the exterior of a building. It is designed to protect the building from water damage. There are different types of membranes including polyethylene, vinyl, and bitumen.

 6. Stucco

 Stucco is a plaster-like material that is used to coat the exterior of buildings. It is typically used to cover brick and concrete structures. It is a popular choice for building a rock wall since it is durable and easy to apply.

 7. Concrete

 Concrete is a composite construction material consisting of aggregate (such as gravel), cement, and water. It is a strong, versatile, and long-lasting material that is used to build roads, bridges, and foundations.


Construction Materials – Extruded Polystyrene

1. Extruded polystyrene (XPS) is a type of plastic that is commonly used in packaging materials. XPS is a high-density polymer that is manufactured using styrene monomer. Styrene is a chemical compound that is derived from petroleum products and is considered non-biodegradable.

 2. Biodegradation

 Biodegradation is the natural breakdown of organic matter. In the case of plastics, biodegradation occurs over time due to exposure to oxygen and water. When exposed to air, plastics begin to break down into smaller pieces called microplastics. These microplastics then enter the food chain and accumulate in marine animals.

 3. Marine Animals

 Marine animals are organisms that live in saltwater environments. Marine animals are often eaten by humans and other animals. When these animals eat plastics, they ingest the microplastics along with their food. Once ingested, the microplastics pass through the digestive system and end up being excreted out of the body.

 4. Human Consumption

 Humans may consume marine animals that have consumed plastics. If humans do not properly dispose of their trash, plastics can enter our bodies through consumption of seafood.

 5. Environmental Impact

 Plastic pollution is a major environmental issue. Plastics are created at a rapid rate and are disposed of improperly. As a result, plastics pollute landfills, waterways, oceans, and even the air we breathe.

Construction Materials – Sample pictures along with names

Construction Materials Name

Also Read:

Copper Ceiling Tiles | Best Ceiling Tiles Ideas 2022

Material handler job description

Top 23 Store keeper interview questions In English

DMCA.com Protection Status